Thursday, August 25, 2011

मंजिल की तलाश


मंजिल की तलाश  में बंद आँखों में सपने संजोये हैं 
खुली आँखों में मंजिल की तलाश लिए हम रात भर न सोये हैं
ये कश्ती , ये मांझी , 
ये सागर के गहराई,
 वो साहिल का किनारा ,
ये कश्ती बिन मांझी के,
सागर की तेज लहरों में बिन किसी सहारे के ,
गुन - गुनते सुरों में गिरते संभलते चलते चले हैं ..
बुलंदियों को छुने निकला है बंजारा दिल अरमानो को भरे ,
ये लहरें जो कहती हैं ''संभल के चलो ''
ये हवाएं  कहती हैं  ''बढ़ते  चलो ''
ये पंछी जो कहते हैं  '' गुनगुनाते चलो''
ये बुलंद होसले  कहते हैं '' छु ले अपने अरमानों का आसमान ,
जमी की तलाश न कर ,
जीतने से पहले हारे के डर से न डर

9 comments:

  1. loved it Simran...its very well written..

    ReplyDelete
  2. The ship is sailing in search of it's destiny. destiny is unknown but efforts known that know to strive honestly till the end. wish you all the best in the unknown journey ahead.

    loved the poem:)

    ReplyDelete
  3. we have destination . . . still wander aimlessly. .Trust the dreams, for in them is hidden the gate to eternity. nice poem.

    ReplyDelete
  4. Wow!!!!!
    Loved it....specially the few last lines...

    ये बुलंद होसले कहते हैं '' छु ले अपने अरमानों का आसमान ,
    जमी की तलाश न कर ,
    जीतने से पहले हारे के डर से न डर

    ReplyDelete
  5. Didn't understand but visited just for my Simi's sake.
    -POSH

    ReplyDelete
  6. Sweet sweet simmi ki sweet sweet kavita.. interesting.. loved portia's comment too.. :D

    ReplyDelete
  7. I just wonder what to type here.. I have no words to match the one above..

    Someone is Special

    ReplyDelete
  8. Beautifully written Simran...
    Very touching!
    Have a wonderful week ahead:)

    ReplyDelete

Either positive or negative comments are good because it shows I am still relevant. Hope you enjoyed reading here:-) !!
~Simran